वीरसिंह भूरिया जयस से माफ़ी मांगे, वरना जयस प्रदेश स्तर पर कांग्रेस पार्टी का विरोध करेंगा।

0 1,338
ad

वीरसिंह भूरिया जयस से माफ़ी मांगे, वरना जयस प्रदेश स्तर पर कांग्रेस पार्टी का विरोध करेंगा।

लोकसभा प्रत्याशी श्री कांतिलाल भूरिया जी की आम सभा मे थांदला विधयाक वीरसिंह भूरिया द्वारा जयस सदस्यों के हाथ -पैर तोड़ने एवं ऐसी कि तैसी बयानबाजी से जयस संगठन मे आक्रोश का माहौल निर्मित है आदिवासी समाज के सर्टिफिकेट से विधायक बनने के बाद समाज हितों की बात रखने वाले राष्ट्रीय स्तरीय संगठन के लोगों के खिलाफ इस प्रकार टिका टिप्पणी सोभा नहीं देती । जबकि जयस संगठन आदिवासी समाज के संवेधानिक अधिकारों,अपनी संस्कृति परम्परा, जल जंगल जमीन को बचाने के संघर्ष कर रहा है। शायद वीरसिंह भूरिया भूल रहे आदिवासी समाज सदियों से  पीड़ित समाज रहा है इतने सालों से आप राजनीती कर रहे हो तो फिर क्यों आदिवासी समाज को एकजुट कर पाए। आदिवासी समाज का उपयोग होता आया है ,आज भी आदिवासी समाज रोजी -रोटी, बच्चों के लालन पालन के लिए पलायन के लिए मजबूर है।

 21 वीं सदी मे जयस नाम का एक संगठन बना जिसने पूंजीपतियों से राजनीतिक गलियारों कि जड़े हिला डाली।

जयस संगठन किसी भी जाती,धर्म, समुदाय के खिलाफ नहीं है बल्कि सर्व समाज के खिलाफ अत्याचार, शोषण, भुखमरी, शिक्षा, स्वास्थ्य के लिए आवाज बुलंद करता है।

अगर वीरसिंह भूरिया जयस संगठन से माफ़ी नहीं मांगते है तो सम्पूर्ण मध्यप्रदेश मे कांग्रेस पार्टी का विरोध होगा और वीरसिंह भूरिया का पुतला दहन किया जाएगा।

मुकेश रावत – जयस प्रदेश प्रभारी

Leave A Reply

Your email address will not be published.

जहरीली ताड़ी पीने से पांच लोगो की हालत बिगड़ी,चार महिला एक पुरुष शामिल-जामा मस्जिद चुनाव कमेटी ने किया हज यात्रियों का सम्मान।-लोकसभा चुनाव के मद्देनजर निष्पक्ष एवं निर्भीक मतदान कराने हेतु चांदपुर पुलिस ने निकाला डॉमिनेशन मार्च-हज यात्रियों के लिए टीका व प्रशिक्षण केम्प,जाने कब और कहा पर सिर्फ एक क्लिक में--अवैध शराब के विरुद्ध पुलिस की कार्यवाही करीब पांच लाख की शराब की जप्त।--पुलिस को मिली बड़ी सफलता, छापामार कार्यवाही के दौरान 7 लाख की अवैध शराब जप्त-कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक ने ईद की तैयारी को लेकर ईदगाह का किया निरीक्षण, व्यवस्था व सुरक्षा को लेकर लिया जायजा।-बिजली विभाग कर रहा है बडे हादसे का इंतजार कही छतिग्रस्त खंम्बे तो कही लटके हुए तार