त्रिमूर्ति स्थापना कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए आदिवासी समाज जिला कोर कमेटी ने माना आभार

0 132
ad

त्रिमूर्ति स्थापना कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए आदिवासी समाज जिला कोर कमेटी ने माना आभार

आदिवासियों का संविधान पर विश्वास है: सतीश पेंदाम

अलीराजपुर:- सर्व आदिवासी समाज,आदिवासी समाज जिला कोर कमेटी,आदिवासी कोटवाल समाज,आदिवासी पटेलिया समाज सहित जयस ने मिलकर की है भाबरा (चंदशेखर आजाद नगर) में त्रिमूर्ति की स्थापना एवं अनावरण किया गया है।जिसमें स्वत्रंत्रता संग्राम सेनानी दादा परथी जादव,संविधान निर्माता बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर और जननायक टंट्या भील की गाता (मूर्ति) का अनावरण महाराष्ट्र से पधारे बिरसा ब्रिगेड के संस्थापक सतीश पेदाम,रमेश डावर गुना,पटेलिया समाज के प्रदेशाध्यक्ष हरिराम पटेल एवं कोटवाल समाज के प्रदेशाध्यक्ष राजाराम भालसे, जिला पंचायत सदस्य श्रीमती रिंकुबाला-लालसिंह डावर,जिला पंचायत सदस्य ठाकुर अजनार एवं जिला कोर कमेटी के सदस्यों की विशेष उपस्थिति में मूर्ति का अनावरण किया गया है।

गाता स्थापना स्थल बेरियर चौराहे से आयोजन कमेटी एवं कोटवाल समाज सहित सभी ने डोल- मांदल के साथ भव्य रैली एवं नाचते गाते जुलूस निकाला गया,जो कि स्थानीय कृषि उपज मंडी पहुँचे वहां पर आमसभा का आयोजन किया गया।सभा को संबोधित करते हुए सतीश पेदाम ने आदिवासी महानायकों को याद करते हुए,आदिवासी समाज को एकजुट रहने की बात कही। महानायक धरती आबा बिरसा मुंडा जी के बारे में बताते हुवे कहा कि बिरसा मुंडा ने कहा था समाज आर्थिक रूप से गरीब रहेगा तो चलेगा,लेकिन विचारों से गरीब नही रहना चाहिए।जो समाज विचारों से गरीब होता है। वो गुलाम होकर गुलाम ही मर जाता है। गांधी जी इस क्षेत्र में आकर गए है स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी दादा परथी जादव भी यहा से उनके साथ चले गए थे ओर आजादी की लड़ाई लड़ी।ये केवल गांधी जी के साथ घूमने वाले लोग नही थे,ये आदिवासियों का जंगल सत्याग्रह चलाने वाले लोगों में से एक नाम थे।लेकिन अफसोस इस बात का है कि हमारा एक भी नेता इनके बारे में नही बोलता हैं। इसके बाद सरकारो पर भी कटाक्ष करते हुवे डॉक्टर बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के बारे में बोलते हुवे कहा आदिवासियों का संविधान व संवैधानिक अधिकारों पर विश्वास है।पेदाम ने कहा अलीराजपुर मजदूरों की मंडी हैं,कहा जाता है कि हर दूसरे घर मे मजदूर मिलता हैं जो कि जिले से बड़ी संख्या में मजदूर बाहर के राज्यों में मजदूरी करने जाते हैं। आदिवासियों के साथ होने वाले अत्याचारों का उल्लेख किया।जिसमें जमीन से विस्थापित करना,खनिज के नाम पर भूमि से बेदखल करना आदि मुद्दों पर भी अपनी बात रखी। जयस रास्ट्रीय अध्यक्ष लोकेश मुजलदा ने भी अपनी बात रखी जिसमे कहा कि सरकारें जो भी हो आदिवासियों को हर प्रकार से मजबूर कर दिया है। बेरोजगारी,भुखमरी,भ्रस्टाचारी आसमान छू रही है।आदिवासियों की जमीन उद्योगों के नाम छीनी जा रही है।हाल ही में जोबट के उबलड,बड़ागुडा,बेटवासा,

नेहतड़ा,डाबड़ी,इन्द्वन,सलखेड़ा,आडवाड़ा,चगदी,गांव में भी खनिज निकालने के नाम पर खनिज विभाग के द्वारा भोपाल सहित जिले से आदेश जारी हो रहे।जिसमें जिला पंचायत सदस्य श्रीमती रिंकुबाला-लालसिंह डावर जिला पंचायत सदस्य सरपंच,

उबलड,बड़ा गुडा,द्वारा कलेक्टर महोदय को पत्र जारी कर जवाब मांग गया था परन्तु आज तक कोई जवाब नही दिया। बाकी नेता मामले को दबाने में लगे हुये हैं।आप विधुत ग्रिड लगा लो, पानी की व्यस्था कर लो, रेलवे लाइन बिछा दो,उद्यगों के लिए जल के लिए पानी बड़ी लाइन बिछा दो परन्तु आदिवासियों के जल जंगल एवं जमीन की लड़ाई हम आर पार लड़ेंगे। कार्य्रकम में मनावर विधयाक डॉक्टर हीरा अलावा ,अलीराजपुर विधयाक मुकेश पटेल, बसन्त ग्रासिया,

राजस्थान, जयसप्रभारी मुकेश रावत,मगनसिंह कटारा,कोटवाल समाज के प्रदेश अध्यक्ष राजाराम भालसे ने भी संबोधित किया,

इस अवसर पर पातालसिंह बघेल रमेश किराड़,मुन्ना चौहान,

आकास जिला अध्यक्ष भंगुसिंह तोमर,केरम जमरा,अजाक्स कर लालसिंह डावर,नितेश आलावा,

जयस जिला उपाध्यक्ष अरविंद कनेश ,विक्रम सिंह बामनिया, केरमसिंह चौहान, जिला पंचायत सदस्य रिंकुबाला-लालसिंह डावर, जिला पंचायत सदस्य ठाकुर अजनार उदयगढ़ सहित आयोजन समिति के दिनेश निनामा,बसन्त अजनार,मनोज डामोर,सरदार परमार,अजय बामनिया,रविराज बघेल,दिप्तेश्वरी गुथरिया आदि सहित बड़ी संख्या में समाजजन उपस्थित रहे।संचालन भीमसिंह मसानिया एवं दीनेश नलवाया तथा आभार सज्जनसिंह जमरा ने माना।सफल आयोजन के लिए आदिवासी समाज जिला कोर कमेटी ने पत्रकार, शासन-प्रशासन सहित प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष जिन्होंने सहयोग किया उनका तहेदिल से आभार व्यक्त किया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.