वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की जयंती राजपूत समाज जोबट द्वारा दुम धाम से मनाई गयी।

0 504
ad

वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की जयंती राजपूत समाज जोबट द्वारा दुम धाम से मनाई गयी।

समस्त राजपूत सरदारों को खम्मा घणी

वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की जयंती द्वितीय वर्ष ठाकुर साहेब राजेंद्रसिंह जी ठिकाना बोरझाड़ की अध्यक्षता में हम समस्त राजपूतों ने तहसील जोबट में धूमधाम ओर हर्षोल्लास से मनाया।

समस्त राजपूतों का प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से इस कार्यक्रम में शामिल होना यह गौरव का विषय है, श्रीमान सज्जनसिंह जी उमरी से भाई सा. को करनी सेना परिवार का जिलाध्यक्ष के दायित्व मिलने पर बधाई तो है किंतु उन्होंने अपने दायित्व का बखूबी वहन करते हुवे इस आयोजन में आर्थिक सहयोग तो दिया किंतु उमरी जैसे दुरस्त स्थान से 50 से 60 राजपूत सरदारों को लाकर आश्चर्यचकित कर दिया ऐसा ही डही के राजा साहेब ने हमारा आतिथ्य तो स्वीकार किया, आर्थिक सहयोग प्रदान करते हुवे डही जैसे दूरस्थ स्थान से 20 से ऊपर राजपूत सरदारो को आयोजन में शामिल करवाया। आपकी सहभागिता को शत शत नमन और साधुवाद। साथ ही कार्यक्रम को सफल और सुव्यवस्थित बनाने में हमारी जोबट की टीम की जितनी सराहना की जाय उतना कम है, श्रीमान ऋतुराजसिंह जी राठौर की सकारात्मक विचारधारा और उनके कदम से कदम मिलाकर बदने वाली टीम श्रीमान अरविंद सिंहजी, जयवीरसिंह जी और यशराजसिंह जी, भरतसिंह जी की अहम भूमिका रही है। हमारे वरिष्ठ में सम्मानीय प्रदीपसिंह जी राठौड़ उर्फ बटुक काका का समय समय पर मार्गदर्शन प्राप्त होता रहा। जिला स्तरीय सफल आयोजन के लिए जोबट के समस्त राजपूत सरदारों का अतुलनीय योगदान रहा है। जिसके लिए आलीराजपुर टीम की ओर से बहुत बहुत आभार🙏🏻

        साथ ही बड़े हर्ष का विषय है कि क्षत्रिय राजपूत समाज को कट्ठीवाड़ा महाराजा साहेब दिग्विजय सिंह का सानिध्य जिलाध्यक्ष रूप में प्राप्त हुआ जिसके लिए सभी राजपूत सरदारों के लिए गौरव का विषय है, सभी को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं महाराजा साहेब की युवा और प्रगतिशील विचारधारा निश्चित ही क्षत्रिय राजपूत समाज को प्रगति के ऊंचे शिखर तक पहुंचाएगी ।आशा करता हु कि हम सब इस अभियान में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे।

            हमारे इस आयोजन के मुख्य अतिथि स्टेट जोबट के महाराजा साहेब उपेंद्रसिंह जी एवं रानी साहिबा किसी कारणवश नहीं आ पाए जिसका हम सबको खेद है, निश्चित ही आगामी योजना में उनका शामिल होना और आयोजन को भव्य बनाने में मार्गदर्शन प्राप्त होगा। 

        इस आयोजन में आकर्षण का केंद्र रही *कुमारी विभूति धाकरे*, जो सरल, सौम्य एवं प्रसन्नचित व्यक्तित्व के विचारधाराओं की धनी, जिनके संचालन में शब्दरूपी मोती बरस रहे थे, जिसमे हम सब आनंद के सरोवर में सरोबार हुवे, सुंदर शब्दो का चयन एवम अपनी सुंदर और ओजस्वी कविता, शायरी से सबका मन मोह लिया ऐसी बिटिया रानी *विभूति* के हुनर देख सभी राजपूत सरदारों, क्षत्रानियो एवं 

मंचासिन राजा, महाराजाओं ने दांतो तले उंगली दबा ली, आपके इस हुनर के लिए शत-शत नमन करता हूं और अलीराजपुर टीम की ओर से आभार, साधुवाद ओर धन्यवाद व्यक्त करता हूं, साथ ही मां भवानी, ओर मां शारदा से कामना करता हूं कि आपका भविष्य उज्जवल हिमालय के शिखर जितना ऊंचा और आपके कंठ पर मातारानी का आशीर्वाद सदेव बना रहे। 

 

सभी का पुनः बहुत-बहुत आभार🙏🏻

Leave A Reply

Your email address will not be published.