यातायात विभाग की अनदेखी के चलते शहर की सड़कों पर वाहनों का जमावड़ा

0 267
ad

यातायात विभाग की अनदेखी के चलते शहर की सड़कों पर वाहनों का जमावड़ा

खण्डवा बड़ोदा मार्ग पर आए दिन लगता जाम यातायात थाना पास होने पर नही होती कार्यवाही

ग्रामीण रूटों पर छोटे वाहनों में आेवरलोडिंग लटककर खतरे भरा सफर कर रहे यात्री

 

अलीराजपुर यातायात विभाग की लापरवाही और अनदेखी के कारण शहर की सड़कों पर आवागमन पूरी तरह से बाधित होता जा रहा है। जिला मुख्यालय होने के बाबजूद यहां पर यातायात पुलिस काफी सुस्त है। चौराहों और सड़कों पर जिस तरह से वाहनों का जमावड़ा देखा जाता है उससे यह साफ हो जाता है कि पूरी तरह से जनता को सुगम यातायात व्यवस्था देने में विभाग नाकाम साबित हो रहा है। हालत यह हैं कि जगह जगह वाहनों का जमावड़ा रहता है और लोग ठीक तरह से सड़क पर नहीं चल पाते हैं कई जगह तो वाहनों से निकलना तक मुश्किल हो जाता है। बेतरतीब ढंग से खड़े रहते हैं वाहन

शहर की सड़कों पर जहां जिसका मन चाहता है वहां पर वाहनों को खड़ा कर दिया जाता है,इस अव्यवस्था के कारण यातायात पूरी तरह से बाधित हो जाता है और आए दिन दुर्घटनाएं होती हैं। बैंक के सामने पार्किंग व्यवस्था पूरी तरह से बिगड़ी हुई नजर आती है। जिला मुख्यालय में अधिकांश बैंक प्रमुख मार्ग में ही हैं जिसके कारण यहां आने वाले लोग अपने वाहनों को सड़क पर ही बेतरतीब ढंग से खड़ा कर चले जाते हैं। ऐसे में भारी परेशानी होती है।

खण्डवा बड़ोदा मार्ग पर सडक किनारे दोनो ओर बेतरकिब खडे हो जाते है

बात करे तो दाहोद नाके से पंचेश्वर मार्ग खण्डवा बड़ोदा हाइवे पर बड़े बड़े वाहन को बीच रोड़ पर पलटाया जाता है। साथ ही दुकानों के सामने बड़े छोटे वाहन खड़े कर देते है। जब कि यातायात पुलिस थाना पास में है। फिर भी इस और ध्यान नही दिया जा रहा। खण्डवा बड़ोदा में जाम की स्थिति यह है कि कई बार काफी देर तक एंबुलेंस भी फंस जाती है और मरीज को समय पर उपचार नहीं मिल पाता है। दुकानों के सामने और रोड़ के दोनों और वाहन लगा देने से रोड़ पर जाम की स्थिति बन जाती है। जाम लगने से और समय पर नहीं पहुंच पाने की वजह से लोगों का काम भी बाधित हो रहा है, यातायात थाना पास होने पर आखिर क्यों नही सुधर रही व्यवस्था यह भी सोचने का विषय है। नगर के बाहर जाकर करते चलानी कार्यवाही की जाती हैं।पर नगर में जाम की तरफ किसी का ध्यान नही जाता।अब इसे यातायात की अनदेखी समझा जा सकता।

 

आखिर कब सुधरेगी व्यवस्था

आमजन में अब यह सवाल पैदा हो गया है। कि आलीराजपुर नगर में बिगड़ी यातायात व्यवस्था आखिर कब सुधरेगी। साथ ही ट्रैफिक विभाग सिर्फ चालान काटने पर ध्यान नहीं देकर शहर की मूल यातायात व्यवस्था सुधारने के लिए कब सक्रिय होगा।

 

जिले के ग्रामीण रूटों पर चलने वाले छोटे सवारी वाहनों में इस समय जमकर ओवरलोडिंग चल रही है। हालात ये हैं कि इन वाहनों में सवारियों को ठूंस ठूंस कर भरा जाता है और जब सवारियां ज्यादा हो जाती हैं तो उन्हें छत पर बैठकर सफर कराया जाता है। कई बार वाहन के पीछे खड़ी सवारियां वाहनों के गड्ढों से गुजरते समय गिर जाती हैं। इस तरह की घटनाएं शहर के सभी ग्रामीण रूटों पर आए दिन होती रहती हैं। इसके बाद भी प्रशासन इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

ग्रामीण रूटों पर छोटे वाहनों में आेवरलोडिंग लटककर खतरे भरा सफर कर रहे यात्री

शहर में यातायात विभाग और पुलिस वाहन संचालकों पर कार्रवाई नहीं कर रही है। वाहन संचालक बिना किसी खौफ के 7 और 10 सीटर वाहनों में 30 से 40 सवारियां भर रहे हैं। इन वाहनों में जितनी सवारियां अंदर बैठी होती हैं उतनी ही सवारियां बाहर लटककर सफर करती हैं।वाहन में सवारी भरने से ग्रामीण रूटों पर आए दिन हो रही दुर्घटनाएं ग्रामीण क्षेत्र में जा रहे मैजिक वाहन में सवारियां भरता वाहन संचालक। आए दिन गिर कर घायल हो रहे यात्री।

जिला मुख्यालय से ऑटो, मैजिक सहित कई वाहनों में पीछे खड़ी सवारियों को बड़ी परेशानी होती है। सड़क पर हुए गड्ढों से छोटे वाहनों के गुजरते समय कई बार पीछे खड़ी सवारियां उचककर गिर जाती हैं। इससे कई बार यात्री गंभीर घायल भी हो जाते हैं। इस तरह की घटनाएं क्षेत्र के ग्रामीण रूटों पर आए दिन होती रहती हैं।

 

प्रशासन नहीं कर रहा कार्रवाई

शहरी क्षेत्र से ग्रामीण क्षेत्र में जाने वाले इन वाहनों पर यातायात विभाग और पुलिस द्वारा काफी समय से कार्रवाई नहीं की गई है। इससे इन वाहन चालकों के हौंसले बुलंद हैं और यह बिना किसी डर के छोटे वाहनों में जमकर ओवरलोडिंग कर रहे हैं।

 

सीजन के समय होती है अधिक परेशानी

शादी विवाह और त्योहारों के सीजन में सवारियों की संख्या अधिक होने के कारण इस तरह की समस्या अधिक होती है। शादी विवाह के सीजन में बसों की बारात आदि में बुकिंग होने के कारण यात्रियों को ऐसे हालात का सामना करना पड़ता है। ऐसे में वाहन चालकों द्वारा यात्रियों से मनमाना किराया भी वसूला जाता है।

इन मार्गों पर सबसे ज्यादा ओवरलोडिंग

सिनेमा चौराहे से नानपुर मार्ग तक, दाहोद नाके से आम्बुआ मार्ग तक,टंकी ग्राउंड से उमराली मार्ग तक और ओवरलोडिंग होती नजर आती हैं। सोरवा नाके से सोरवा मार्ग तक जो साप्ताहिक हाट बाजार वाले दिन जम कर ओवरल्डिंग होती नजर आती हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

जहरीली ताड़ी पीने से पांच लोगो की हालत बिगड़ी,चार महिला एक पुरुष शामिल-जामा मस्जिद चुनाव कमेटी ने किया हज यात्रियों का सम्मान।-लोकसभा चुनाव के मद्देनजर निष्पक्ष एवं निर्भीक मतदान कराने हेतु चांदपुर पुलिस ने निकाला डॉमिनेशन मार्च-हज यात्रियों के लिए टीका व प्रशिक्षण केम्प,जाने कब और कहा पर सिर्फ एक क्लिक में--अवैध शराब के विरुद्ध पुलिस की कार्यवाही करीब पांच लाख की शराब की जप्त।--पुलिस को मिली बड़ी सफलता, छापामार कार्यवाही के दौरान 7 लाख की अवैध शराब जप्त-कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक ने ईद की तैयारी को लेकर ईदगाह का किया निरीक्षण, व्यवस्था व सुरक्षा को लेकर लिया जायजा।-बिजली विभाग कर रहा है बडे हादसे का इंतजार कही छतिग्रस्त खंम्बे तो कही लटके हुए तार