महामहिम राज्यपाल मंगुभाई पटेल को आदिवासी समाज के विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदधिकातियों के द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन

0 353
ad

महामहिम राज्यपाल मंगुभाई पटेल को आदिवासी समाज के विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदधिकातियों के द्वारा विभिन्न मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन

 

अलीराजपुर:- जिले के दो दिवसीय महामहिम राज्यपाल मंगुभाई पटेल के दौरे के समय आदिवासी समाज जिला कोर कमेटी के सदस्य एवं विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों के द्वारा जिले की विभिन्न समस्याओं के निराकरण हेतु स्थानीय फारेस्ट रेस्ट हाउस में सताविस सूत्रीय मांग पत्र सौंप कर आदिवासी बाहुल्य जिले की आम जनता की सुविधाओं एवं मांग को देखते हुए। समेकित ज्ञापन सौंपा गया है।


जिले में आदिवासी समाज के बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा में जोड़ने के लिये आदिवासी विकास विभाग द्वारा विशिष्ट विद्यालय कन्या शिक्षा परिसर,मॉडल स्कूल एवं एकलव्य आदर्श विधालयों की स्थापना की गई है।परन्तु अभी तक स्थाई शिक्षकों की भर्ती नही की गई है, ये विद्यालय अतिथि शिक्षकों के भरोसे चल रहे हैं।
प्रारंभिक शिक्षा की स्थिति भी जिले में बहुत दयनीय है।जिले में लगभग 500 से अधिक विद्यालय शिक्षक विहीन है,उतने ही विद्यालय एक शिक्षकीय हैं,अतिशीघ्र शिक्षकों की भर्ती की मांग की गई है।


जिला सहित प्रत्येक विकासखण्ड में एक-एक स्थाई रूप से पलायन छत्रावास की स्थापना, लगभग डेढ लाख रिक्त बैकलॉग पदों पर अतिशीध्र भर्ती करने की मांग की गई है।
जिले में मेडिकल कॉलेज, विधि महाविद्यालय, कृषि महाविद्यालय सहित जिला मुख्यालय पर कन्या महाविद्यालय की स्वीकृति की मांग की गई हैं।
चिकित्सा विभाग द्वारा सिकलसेल एनीमिया के सर्वे कार्य में गम्भीर लापरवाही की गई हैं, ओर 100 प्रतिशत सर्वे कार्य बता कर शासन को गुमराह किया जा रहा है।जब की ग्रामीण क्षेत्रों में एवं कई विद्यालयों में जांच ही हुई नही हैं, कई बच्चे पलायन हैं, तो जांच 100 प्रतिशत बच्चों का चिन्हांकन केसे हो गया।वास्तविक जांच होगी तो हजारों सिकलसेल के मरीज मिलेंगे।विभाग के कार्य की जांच की मांग की गई है।
सिलिकोसिस बीमारी, के लिए शिविर लगाने,फ्लोराइड पानी वाले क्षेत्रों में पीने के लिए पानी उचित प्रबंध की मांग की गई है।
डूब प्रभावित क्षेत्र सकरजा में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्वीकृति की मांग की गई है। ग्राम नदी सिरखडी,अंजनबारा,डुब खड़ा,जलसिंधी, आकड़ीया, बड़ा आम्बा, खुन्दी एवं सकराजा के ग्रामीण लोगों 60 किलोमीटर से अधिक दूरी तय कर बीमार मरीज को इलाज के लिए बखतगढ़ आना पड़ता है।
ग्राम सोरवा में महान आदिवासी क्रांतिकारी स्वत्रंत्रता सेनानी शहिदछितु किराड़ की जन्म स्थली उनकी गढ़ी का जीर्णोद्धार कर आदिवाज़ी समाज प्रेरणा केंद्र स्थापना, अलीराजपुर रेलवे स्टेशन का नामकरण स्वतंत्रता सेनानी क्रांतिकारी शहीद छितु किराड़ करने, जिला मुख्यालय सहित सभी कस्बों एवं विकड़खण्ड मुख्यालय पर आदिवासी समाज मांगलिक भवन का निर्माण,5वीं अनुसूची का क्रियान्वयन एवं अम्लीकरण, आदिवासी समुदाय पर बढ़ते अत्याचार के रोकथाम, आदिवासी देव स्थलों, संस्कृति, एवं परम्पराओं का संरक्षण,ट्राइबल सब प्लान की राशि का समुचित उपयोग हेतु उचित प्रबंध करने, विदेशी शराब जिले में पूर्णतः प्रतिबंध लगाने, ग्राम पंचायत नानपुर को टप्पा तहसील की मांग, कर्मचारियों की रोकी गई पदोन्नति करने, पुरानी पेंशन बहाली करने, ग्राम पंचायत के द्वारा आवास कर वसूली पर रोक लगाने, ग्राम पंचायत स्तर पर पटवारियों की साप्ताहिक बैठक व्यवस्था सुनिश्चित करने, पशुओं में फैल रहे लंपी वायरस के रोकथाम एवं कर्मचारियों एवं उनके आश्रितों के उपचार हेतु शासकीय बीमा योजना पॉलिसी तैयार करने की मांग की गई है।
इस अवसर पर सामाजिक संगठन के कार्यक्रता,शंकर भाई तड़वाल, विक्रम चौहान, अरविंद कनेश एवं विक्रमसिंह बामनिया आदि उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.