शासकीय महाविद्यालय, सोंडवा में जनजातीय गौरव दिवस मनाया गया

0 104
ad

शासकीय महाविद्यालय, सोंडवा में जनजातीय गौरव दिवस मनाया गया

 

शासकीय महाविद्यालय, सोडवा में स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा की जयंती 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंग सर्वप्रथम शहीद नायक बिरसा मुंडा की तस्वीर पर माल्यार्पण कर किया गया। प्रो. राजेश बारिया ने सभी को बिरसा मुंडा जयंती और जनजातीय दिवस की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर आयोजित व्याख्यान में वक्ता प्रो. सायसिंग अवास्या ने उनके जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारतीय इतिहास में बिरसा मुंडा एक ऐसे नायक थे, जिन्होंने भारत के झारखंड राज्य में अपने क्रांतिकारी चिंतन से उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में आदिवासी समाज की दशा और दिशा बदलकर नवीन सामाजिक और राजनीतिक युग का सूत्रपात किया। इस कार्यक्रम में ऑनलाइन शामिल हुए वक्ताओं में शासकीय महाविद्यालय, सोयतकंला से डॉ. सविता यादव ने अपने व्याख्यान में कहा कि स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा ने सामाजिक और आर्थिक स्तर पर आदिवासियों में चेतना की चिंगारी सुलगा दी थी, अतः राजनीतिक स्तर पर इसे आग बनने में देर नहीं लगी। इससे आदिवासी अपने राजनीतिक अधिकारों के प्रति सजग हुए। ब्रिटिश हुकूमत ने इसे खतरे का संकेत समझकर बिरसा मुंडा को गिरफ्तार करके जेल में डाल दिया। वहां अंग्रेजों ने उन्हें धीमा जहर दिया था। जिस कारण वे 9 जून 1900 को शहीद हो गए।आदर्श महाविद्यालय झाबुआ के प्रो. धुलसिंह खरत ने अपने व्याख्यान में कहा कि भारतीय जमींदारों और जागीरदारों तथा ब्रिटिश शासकों के शोषण की भट्टी में आदिवासी समाज झुलस रहा था, शहीद बिरसा मुंडा ने आदिवासियों को शोषण की यातना से मुक्ति दिलाने के लिए उन्हें संगठित किया। आदिवासी लोग उन्हें भगवान मानते थे। उन्होंने अपना देश अपना राज नारा दिया।इसके पश्चात विद्यार्थियों से आदिवासी सांस्कृतिक विरासत एवं आदिवासी समाज के नायक बिरसा मुंडा पर आमंत्रित आलेख में चयनित सर्वश्रेष्ठ आलेख के लिए कु. रीता द्वार को प्रमाणपत्र तथा शहीद बिरसा मुंडा के जीवन पर आधारित पुस्तक देकर पुरस्कृत किया गया। अन्य विद्यार्थियों को उनके द्वारा उपरोक्त विषय पर आलेख लेखन हेतु प्रोत्साहन स्वरूप प्रमाणपत्र प्रदान किये गये। उक्त कार्यक्रम में महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने उत्साहपूर्वक भागीदारी की तथा शहीद नायक बिरसा मुंडा के जीवन तथा उनके योगदान से अवगत हुए। प्रो. विशाल देवड़ा, प्रो. कनु बडोले, श्रीमती कविता चौहान, श्री मोहन कुमार डोडवे उक्त कार्यक्रम में उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संयोजन व संचालन प्रो. नीलम पाटीदार एवं आभार प्रदर्शन प्रो. तबस्सुम कुरैशी द्वारा किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

नानपुर में गुरु पूर्णिमा व स्थापना पर्व धूमधाम से मनाया ,हजारों लोगों ने दर्शन कर भंडारा में प्रसादी का लाभ लिया .-ताजिए विसर्जन के साथ खत्म हुआ मोहर्रम पर्व, हक़ हुसैन या हुसैन के नारों से गूंज उठा शहर।-समाजसेवी इसामुद्दीन मंसूरी द्वारा बच्चो को वाटर बॉटल वितरित कर मनाया अपने पोते का जन्मदिन।-हज़रत कासिम की याद में निकला मेंहदी का जुलूस,ताजियो पर जाकर की मेंहदी की रस्म अदा-आबकारी विभाग अलीराजपुर द्वारा बड़ी कार्यवाही, 1200 पेटी अवैध शराब जब्त कर प्रकरण  दर्ज किया गया।-50 पौधे लगाकर कराम सिंह मंडलोई (शिक्षक) ने मनाया अपना 25वां जन्मदिन,सेलेब्रेशन का अनूठा अंदाज़ आमजन के लिए बना प्रेरणा।-अश्विन बामनिया का असिस्टेंड कमांडेड के पद पर हुआ चयन,आकास संगठन ने किया सम्मानित-अलीराजपुर पब्लिक स्कूल का हुआ सुभारंभ,अतिथियों ने रिबन काटकर किया आगाज़,समिति व स्टाफ ने किया बच्चो का वेलकम-नव प्रवेशित विद्यार्थियों का दीक्षारंभ कार्यक्रम का हुआ समापन-रिटायर्ड फौजी का हुआ भव्य स्वागत,आदिवासी समाज ने निकाला नगर में स्वागत जुलूस