कलेक्टर साहब आखिर जोबट के कलमकार क्यो हटवाना चाहते है पीआरओ मनीष गूप्ता को बडा सवाल 

0 179
ad

कलेक्टर साहब आखिर जोबट के कलमकार क्यो हटवाना चाहते है पीआरओ मनीष गूप्ता को बडा सवाल 

 

पीआरओ ने निर्वाचन आयोग के आदेश का कराया पालन तो कैसे हो गयी कलमकारो की बेइज्जती 

 

पीआरओ को हटवाने के लिए सीएम शिवराज से लेकर थाने ओर थाने के बाद कलेक्टर कार्यालय तक लगाया जोर 

आलीराजपुर – आलीराजपुर जिले मे जोबट के कूछ कलमकारो ओर पीआरओ के बीच शिकायती युद्ध चल रहा है ।इस युद्ध मे पीआरओ इन महान कलमकारो पर भारी पढ रहे है । क्योकि सच्चाई का साथ तो भगवान भी देते है ऐसा ही कूछ यहा पीआरओ मनीष गूप्ता के साथ हो रहा है । जिस तरह महाभारत के युद्ध मे कोरवो ओर पांडवो के बीच जो युद्ध हूआ था उसमे भगवान श्रीकृष्ण ने पांडव का साथ दिया था ओर युद्ध जीता था । ऐसा ही कुछ पीआरओ मनीष गूप्ता के साथ हो रहा है यहा एक ओर जोबट के कूछ गिने चुने कलमकार है जो पीआरओ को टारगेट कर आलीराजपुर से हटाने के लिए सीएम शिवराज को शिकायत आवेदन दिया लेकिन कूछ नही हुआ उसके बाद नगर परिषद जोबट मे मतदान के दिन कलेक्टर ओर एसपी साहब के जोबट दौरे के दौरान पीआरओ के द्वारा जोबट के एक कलमकार है उनको मतदान केन्द्र के अंदर जाने से रोक दिया तभी वहा उनके साथ मौजूद अन्य कलमकारो को एक ओर मोका मिल गया कलमकारो ने इसे एक पत्रकार का अपमान बताया ओर थाने मे जाकर पीआरओ के खिलाफ कार्रवाई को लेकर एक आवेदन दिया ओर कहा गया के पीआरओ पत्रकारो के साथ अभद्र व्यवहार करते है उनके खिलाफ कार्रवाई होना चाहिए लेकिन वहा भी पीआरओ युद्ध जीत जाते है अब बारी आयी कलेक्टर साहब की तो पीआरओ के खिलाफ कोई कार्रवाई नही होने को लेकर जोबट के महान कलमकारो ने योजना बनाई के अब कलेक्टर के दरवाजे पर ही न्याय मिलेगा तुंरत सोशल मीडिया पर एक मेसेज डाल कर जिले के सारे पत्रकार को कलेक्टर कार्यालय बुलवाया गया मगर जिले का कोई भी पत्रकार इनके साथ नही पहूचा सिर्फ आलीराजपुर जिला मुख्यालय के दो तीन पत्रकार पहूचे थे उसमे से एक के पास ना तो कोई चैनल है ओर ना अखबार फिर भी कलेक्टर साहब से मिलने पहूच गये ओर पीआरओ के खिलाफ एक आवेदन दिया अब सवाल यह है की पीआरओ ने पत्रकार का कोन सा अपमान कर दिया था सिर्फ निर्वाचन आयोग के आदेश का पालन करवाने के लिए ही पीआरओ मनीष गूप्ता ने पत्रकार को अंदर जाने पर रोक दिया इसमे क्या गलत हुआ। कलेक्टर साहब आपको समझना होगा कही पीआरओ के खिलाफ कोई साजिश तो नही है।क्योकि जो घटना घटी है वो कलेक्टर साहब ओर एसपी साहब की मौजूदगी मै हूई है फिर पीआरओ के खिलाफ कलमकार क्यो ये जिला मुख्यालय के पत्रकार को भी समझना चाहिए हमेशा सच्चाई का साथ देना चाहिए ।सभी पत्रकार आपस मे एक परिवार है और जरूरत पड़ने पर पूरे परिवार को एक साथ एक जुट होकर खड़े रहना चाहए लेकिन यह जरूर जान लेना चाहिये कि हमारे बीच के पत्रकार भाई कही कोई गलती तो नही कर रहे है अब यह एक बड़ा सवाल खड़ा होता है कि यदि पीआरओ निर्वाचन आयोग के नियम अनुसार किसी को नियम का पालन करने का बोलते है तो क्या गलत है यदि हम पत्रकार ही अगर नियम को नही मानेंगे तो हमे खुद सोचना चाहिए कि हम कोनसी पत्रकारिता कर रहे है पत्रकार की लेखनी से समाज मे हमेशा सुधार होता आया है लेकिन सुधार करने वाला ही बिगाड़ करे तो सभी पत्रकारो जरूर सोचना चाहिए

और यह भी सोचना चाहिए कि मतदान के दिन जो घटना घटी तब कलेक्टर महोदय और पुलिस अधीक्षक महोदय जोबट में हीं मौजूद थे तो जो घटना के चश्मदीद है उन्हीं को वहीं घटना लिखकर आवेदन के तौर पर देना इस बात को क्या समझा जाना चाहिए यदि अगर माना लिया जाए कि पीआरओ की कुछ गलती हो सकती है तो कलेक्टर महोदय द्वारा पीआरओ को वहीं पर क्यों कुछ नहीं कहा गया

तो इस घटना से फिलहाल यह समझ लेना चाहिए कि यहां पर पीआरओ की कोई गलती नजर नहीं आती है

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

जहरीली ताड़ी पीने से पांच लोगो की हालत बिगड़ी,चार महिला एक पुरुष शामिल-जामा मस्जिद चुनाव कमेटी ने किया हज यात्रियों का सम्मान।-लोकसभा चुनाव के मद्देनजर निष्पक्ष एवं निर्भीक मतदान कराने हेतु चांदपुर पुलिस ने निकाला डॉमिनेशन मार्च-हज यात्रियों के लिए टीका व प्रशिक्षण केम्प,जाने कब और कहा पर सिर्फ एक क्लिक में--अवैध शराब के विरुद्ध पुलिस की कार्यवाही करीब पांच लाख की शराब की जप्त।--पुलिस को मिली बड़ी सफलता, छापामार कार्यवाही के दौरान 7 लाख की अवैध शराब जप्त-कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक ने ईद की तैयारी को लेकर ईदगाह का किया निरीक्षण, व्यवस्था व सुरक्षा को लेकर लिया जायजा।-बिजली विभाग कर रहा है बडे हादसे का इंतजार कही छतिग्रस्त खंम्बे तो कही लटके हुए तार